Fixed Deposit VS SIP Investment नमस्कार दोस्तों! उम्मीद करते हैं कि आप अच्छे होंगे। क्या आप भी अपने पैसे को बढ़ाना चाहते हैं? क्या आप भी अपने सेविंग अकाउंट में मिल रहे ब्याज दर से परेशान हैं? अगर इन सवालों का जवाब हां है तो यकीन मानिए आज की आर्टिकल सिर्फ और सिर्फ आपके लिए ही है। दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं Fixed Deposit VS SIP Investment के बारे में। यानी अगर आपके पास जो कुछ पैसा है उसे आप सही तरीके से बढ़ाना चाहते हैं या निवेश करके उस पैसे से अच्छा खासा रिटर्न कमाना चाहते हैं तो आज हम इसी विषय में बात करने वाले हैं। तो आइए बात करते हैं विस्तार से.

Fixed Deposit या SIP Investment कौन सा है बेहतर

Fixed Deposit VS SIP Investment

दोस्तों जब भी किसी के पास कुछ पैसे बचते हैं तो अपने भविष्य के खर्चे से सही तरह से सामंजस्य बैठाने के लिए लोग पैसे को Fixed Deposit या SIP Investment के माध्यम से इन्वेस्टमेंट करना उचित समझते हैं लेकिन आपकी जानकारी के लिए बता दें अगर आप Fixed Deposit करते हैं तो आपको आज के समय में कोई भी बैंक सिर्फ 6% तक ही रिटर्न देती है। ठीक इसके विपरीत अगर आप एसआईपी कराते हैं तो इसके माध्यम से आप साल के कम से कम 15% रिटर्न जरूर ही कमा पाते हैं।

इसलिए अगर आप लंबे समय के लिए अपने पैसे को सही तरीके से बढ़ाना चाहते हैं तो आपके लिए SIP के माध्यम से पैसे को निवेश करना एक सही विकल्प हो सकता है। ठीक इसके विपरीत अगर आप Stock Market जैसे निवेश करने के जगहों से डरते हैं तो Fixed Deposit करा सकते हैं लेकिन यह कभी भी SIP से बेहतर नहीं हो सकता।

Fixed Deposit ही क्यों

जब भी आप किसी भी बैंक में अपने पैसे को बचत खाते में नहीं बल्कि FD के माध्यम से बचत करते हैं तो आपको Saving account यानी बचत खाते में मिल रही ब्याज दर से ज्यादा ब्याज दर मिलता है। यह ब्याज दर आज के समय में 5% से 6% तक सीमित रह गया है।

Fixed Deposit के फायदे

Fixed Deposit के लाभ यह है कि आप जब भी पैसे बैंक में रखते हैं तो यह पैसा आपका बिल्कुल ही सुरक्षित रहता है। आप जितना भी पैसा Fixed Deposit के माध्यम से बैंक में रखते हैं उसमें बैंक पहले से निर्धारित ब्याज दर जोड़कर परिपक्व तिथि यानी maturity date के समय आपको सभी राशि उपलब्ध कराती है।

कब Fixed Deposit हो सकता है नुकसानदेह

जिस तरह हर किसी भी चीज के लाभ या नुकसान होते हैं ठीक उसी प्रकार Fixed Deposit सिर्फ और सिर्फ यही तक फायदेमंद है कि आपको आपके पैसे के लिए सुरक्षा के संबंध में बिल्कुल भी सोचना नहीं पड़ता। आपका पैसा बैंक बिल्कुल ही सुरक्षित रखता है और तय समय तक आपको पूर्व निर्धारित ब्याज दर सहित मिश्रधन आपको लौटा देता है। लेकिन अगर आप अपने पैसे को तय समय से पहले निकालना चाहते हैं तो याद रखें आपको उसके लिए आर्थिक दंड देना पड़ता है।

यह आर्थिक दंड यहां तक हो सकता है कि आपको सिर्फ और सिर्फ मूलधन मिले और जितने भी दिन तक आप पैसे बैंक में रखें उसका ₹1 भी ब्याज दर ना मिले। इसीलिए जो भी लोग शिक्षित और जागरूक होते हैं वह कभी भी फिक्स डिपॉजिट में पैसा निवेश नहीं करते या बहुत ही कम मात्रा में अपने पैसे को फिक्स्ड डिपॉजिट के माध्यम से बैंक में जमा करते हैं।

SIP Investment क्यों करें

दोस्तों SIP का पूरा नाम है Systematic Investment Plan, इससे सीधा स्पष्ट होता है कि आपका पैसा एक सिस्टम से यानी तय तिथि को, तय राशि, हर महीने आपके बैंक अकाउंट से कट जाता है और म्यूच्यूअल फंड में निवेश हो जाता है। आज के समय में जो भी जागरूक और शिक्षित लोग हैं उनके बीच SIP investment ट्रेंडिंग में चल रहा है। लोग एसआईपी इन्वेस्टमेंट के माध्यम से करोड़ों रुपए कमा रहे हैं।

SIP Investment के फायदे

याद रखें SIP कभी भी 2 महीने, 6 महीने या साल भर के लिए ना करवाएं। जब भी आप अपने पैसे को सही तरीके से बढ़ाना चाहते हैं तो SIP के माध्यम से निवेश करना एक उचित विकल्प है लेकिन आपके अंदर कम से कम 3 साल, 5 साल या 10 साल का संयम होना अनिवार्य है। दोस्तों अगर आप कम से कम 3 साल तक अपने पैसे को SIP के माध्यम से इन्वेस्ट करते हैं तभी आप इसके फायदे को सही तरीके से समझ पाएंगे नहीं तो आप SIP को व्यर्थ बता कर दूसरे को भी निवेश करने से रोक सकते हैं।

SIP Investment के ये हैं नुकसान

जब भी आप SIP के माध्यम से निवेश करते हैं तो आप अगर 2 महीने, 6 महीने या साल भर के लिए निवेश करते हैं तो आपको इसके लिए सोचना पड़ सकता है, क्योंकि कम समय के लिए SIP Investment नुकसानदेह होता है। आपका पैसा नकारात्मक ग्राफ दिखाएगा यानी आप हानि में रहेंगे। इसीलिए कभी भी SIP के माध्यम से निवेश करने समय इसका ध्यान रखना बहुत ही आवश्यक है। अगर आप कम समय के लिए पैसा निवेश करना चाहते हैं तो यह एक उचित विकल्प नहीं होगा। बहुत बार ऐसा देखा जाता है कि लोगों को उनके पास मौजूद राशि को बढ़ाने के लिए कम समय होता है और वह SIP में अपने पैसे इन्वेस्ट कर देते हैं फिर पछताते हैं।

लंबे समय के निवेश में SIP है बेहतर

दोस्तों आज हम बात कर रहे हैं Fixed Deposit VS SIP Investment के बारे में। अगर आप लंबे समय के लिए अपने पैसे को निवेश करना चाहते हैं तो SIP के द्वारा निवेश करना बहुत ही सरल है। आप SIP के द्वारा निवेश करने के लिए ढेर सारे ऑनलाइन एप्लीकेशन का सहारा ले सकते हैं, जैसे Groww,ET Money, Policybazaar इत्यादि। लेकिन अगर आप कुछ समय के लिए यानी साल भर या 2 साल के लिए भी अपने पैसे को निवेश करना चाहते हैं लेकिन रिस्क बिल्कुल भी नहीं लेना चाहते हैं तो Fixed Deposit भी एक अच्छा विकल्प हो सकता है। लेकिन याद रखें आपको इसमें अधिकतम 6% तक का ही ब्याज दर मिलेगा।

उदाहरण के तौर पर आप समझ सकते हैं कि अगर आप ₹500 महीने 20 साल के लिए SIP कराते हैं तो प्रतिवर्ष न्यूनतम 12% के Return के अनुसार आपका निवेश किया हुआ कुल अमाउंट ₹1,20,000 होता है, जो 20 साल के बाद 4,99,574 रुपया हो जाएगा जबकि ₹1,20,000 रुपया Fixed Deposit के माध्यम से 20 साल के लिए 5% ब्याज दर पर लगाने पर आपको मिश्रधन के रूप में ₹2,40,000 रुपया ही मिलेगा। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि कौन बेहतर है। निसंदेह SIP।

आपकी सुविधा के लिए SIP Calculator का लिंक भी नीचे दिया गया है। आप अपने जरूरत के अनुसार से राशि, साल और प्रतिवर्ष अनुमानित रिटर्न भर सकते हैं, जिससे आपको पता चलेगा कि उस निर्धारित राशि का निर्धारित समय के बाद कितना राशि आपको मिलेगा।

SIP Calculator Link

GO Calculator

निष्कर्ष

दोस्तों अगर आपको मेरे द्वारा Fixed Deposit VS SIP Investment के बारे में बताई गई सभी जानकारी अच्छी लगी हो तो आप निश्चित रूप से अपने दोस्तों और नजदीकी रिश्तेदारों में यह आर्टिकल साझा जरूर करें। अगले अंक में फिर से नई जानकारी के साथ उपस्थित होंगे। तब तक के लिए इजाजत दीजिए जय हिंद।


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published.